केसर की खेती कब और किस तरह करें. – Saffron Farming in hindi

443
saffron crop in hindi

केसर दुनिया में पाया जाने वाला सबसे महंगा पौधा है | इतना महंगा होने के कारण इसे लाल सोना भी कहा जाता है |  केसर की खेती करना बहुत ही आसान और सरल है | केसर की फसल में ज्यादा मेहनत की आवश्कयकता नहीं होती | और साथ ही इसकी फसल अवधि भी 3 – 4 महीने का होता है | केसर की कीमत भी दिन – बदिन बढ़ते जा रहे है | जिससे किसान भाई अच्छा लाभ कमा सकते है | Kesar ki Kheti ki Puri Jankari Hindi me

केसर की कीमत एवं उपज – saffron Price and yield of saffron in hindisaffron Price

  • केसर की कीमत केसर की गुड़वक्ता पर निर्भर करता है, आज भारत में केसर का मूल्य 1,50,000  से 3,00,000 तक हो गया है |
  • केसर की फसल से लगभग 2.5 से 3 किलो सूखी केसर प्रति हेक्टेयर उत्पादन हो सकता है |

केसर के लिए उपयुक्त जलवायु – Climate suitable for saffron in hindi

केसर की खेती मुख्यत: समुंद्र तल से 1500 से 2500 मीटर की उचाई के साथ ही इसे धुप एवं सूखे दोनों ही क्षेत्रो में ज्यादा पाया जाता है | और ठंडा एवं गिला मौसम पौधे के विकास को रोकता है | जिससे काफी फायदा होता है, और साथ ही फूल लगने की क्रिया को भी सुस्त कर देता है | जिसमे काफी अच्छी पराग बनती है |

केसर की भूमि के लिए उपयुक्त जलवायु कैसी होनी चाहिए- Climate suitable for saffron land in hindi

केसर के उत्पादन के लिए आपको ध्यान  देना होगा की जिस खेत में आप केसर की खेती करने जा रहे है उसकी मिटटी रेतीली चिकनी बलुई या फिर दोमट मिट्टी होनी चाहिए | लेकिन केसर की खेती अन्य मिट्टी में भी आसानी से हो जाता है जिस भूमि में पानी का निकास आसानी से हो या किया जा सके | पानी के जमाव के कारण केसर के Corms सड जाते है और फसल बर्बाद हो जाती है इसलिए कोसिस करे की भूमि का चयन करते समय ऐसे भूमि का चयन करे जिसकी मिट्टी में पानी का जमाव नहीं होता हो | अगर भूमि में पानी का जमाव होगा तो फसल काफी हद तक प्रभावित होगी |

केसर की फसल के लिए भूमी की तयारी कैसे करे – Preparation of land for saffron crop in hindi

केसर का बीज बोन या लगाने से पहले खेत को अच्छी तरह से जुताई कर मिट्टी को भुरभुरा बना ले | और अंतिम जुताई से पहले 20 टन गोबर का खाद और साथ में 90 किलोग्राम नाइट्रोजन  60 किलोग्राम  फास्फोरस और पोटास प्रति हेक्टेयर के दर से अपने खेत में डाल कर अच्छी तरह से जुताई कर ले | इससे आपकी जमीन उर्वरक और भुरभरी बानी रहेगी एवं केसर की फसल काफी हद तक अच्छी होगी |

केसर की फसल का रोपण का समय, दर एवं विधि – The time of planting of saffron crop in hindi

saffron planting

  • किसी  भी फसल को रोपने का एक निश्चित या निर्धारित समय होता है | और सही समय पर बीज नहीं रोपने से हमे अपेक्षा के अनुशार उपज नहीं मिल पाती है | इसलिए बीज को हमेशा निर्धारित समय पर ही खेतो पर लगाए |
  • केसर की फसल लगने का सही समय जुलाई से अगस्त है लेकिन मध्य जुलाई के समय  को सर्वश्रेस्ट होती है |
  • केसर के croms लगाते वक्त ध्यान रखे की croms को लगाने के लिए 6 – 7 cm का गड्ढ़ा करे, और दो corms के बिच की दुरी लगभग 10 cm रखे | इससे croms अच्छे से फलेगी फूलेगी और पराग भी अच्छे मात्रा  में निकलेगा |

केसर की खेती के लिए सिचाई – Irrigation for saffron crop in hindi

केसर की फसल के लिए 10 से. मि. वर्षा की आवश्य्कता होती है | अगर बीज लगने के कुछ दिन बाद हलकी वर्षा हो तो खेत में सिचाई करने की आवश्कता नहीं है | लेकिन यदि वर्षा नहीं होती है तो हमे 15 दिन के अंतराल में 2 से 3 बार सिचाई करने की आवश्य्कता होती है | सिचाई के दौरान यह ध्यान रहे की खेत में कही भी पानी का जमाव न हो और पानी के जमाओ होने पर निकाशी का जल्द ही प्रबंध करना चाहिए | इससे फसल प्रभावित होने से बचे रहेगी |

(और पढ़ें – आलू की खेती कैसे करे)

केसर की खेती की देख रेख कैसे करे – How to handle saffron cultivation in hindi

खेतो में अक्सर जंगली घास पनपते हुवे नज़र आते है , इसलिए हमे समय समय पर निरीक्षण करते रहना चाइये और जंगली घासों  को निकालते रहना चाहिए क्योकि ये हमारे फसल के विकाश में बाधक होते है | केसर के अच्छे विकास के लिए रोजाना 8 घंटे धुप की आवश्य्कता होती है जब केसर अपने विकास के मार्ग पर हो अर्थात corms से पौधे निकल कर बड़ा हो रहा हो उस समय पौधे में हर दूसरे दिन पानी डालने की आवश्यक्ता होती है | केसर के पौधो में अक्टूबर  के पहले सप्ताह पौधों में फूल लगाने की प्रक्रिया आरम्भ हो जाती है | इस समय केसर के पौधो पर उचित ध्यान से और यह खास कर यह ध्यान दे की किसी  तरह का कोई कीड़ा या पतंग नहीं लग रहा हो | क्योंकि अगर प्राग नहीं निकला तो उसमे से केसर भी नहीं निकलेगी |

केसर की फसल की कटाई और सुखाई – Saffron harvesting and drying in hindi

Saffron harvesting

केसर के फूल  खिलने के दूसरे दिन ही फूल को तोड़ कर रख लिया जाता है | फूल को सूखने में ज्यादा समय नहीं लगता है यह 3 – 4  घंटे में ही सुख जाते है, फूल के सूखने के बाद फूलो से केसर को निकल लिया जाता है और इसे किसी कंटेनर में रख दिया जाता है और जब पूरी फसल कट जाती है उसके बाद इसे धुप में अच्छे से सूखा  कर बाजार में बेचा जाता है | एक बार केसर के पैदावार  के बाद इसे अच्छे तरह से Pack कर आप इसे किसी भी नजदीकी मंडी में अच्छे दामों में बेच सकते है | क्योंकि कई किसानो की बड़ी समस्या होती है की इसे कान्हा बेचे तो जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की इसे आप नीमच मंडी में बेच सकते है साथ ही आयुर्वेद की मंडी हो वहा भी बेच सकते है इसके साथ ही आप इसे online भी बेच सकते है |

(और पढ़ें – गेंदा फूल की खेती कैसे करे उसकी जानकारी)

केसर के बीज कँहा मिलेगा – buy Saffron Seed

यह किसानो के लिए बड़ी समस्या होती है की किसान भाई केसर का बीज कान्हा से खरीदेंगे इसके लिए आप निचे दिए गए लिंक पर जाकर केसर के बीज खरीद सकते है |

केसर बीज – buy Saffron Seeds