गुरूवार, अक्टूबर 6, 2022
होम उन्नत खेती के तरीके

उन्नत खेती के तरीके

धान की उन्नत खेती कैसे करे – dhan ki kheti kaise kare...

धान के लिए खेत की तैयारी गर्मी में समय मिलने पर खेत की एक बार अच्छी तरह से जुताई करले तथा गोबर अथवा कम्पोस्ट...

गेंदा फूल की खेती कैसे करे उसकी जानकारी – Marigold cultivation in...

गेंदा फूल की खेती कैसे करे उसकी जानकारी - Marigold cultivation in hindi गेंदा फसल की देखभाल - phoolon ki kheti kaise kare गेंदा फूल...

केले की खेती की जानकारी – Banana farming information in Hindi

केला दुनिया भर में एक प्रमुख लोकप्रिय पौष्टिक खाद्य फल है। पके केलों का प्रयोग फलों के रूप में एवं कच्चे केले का प्रयोग...

ब्रुसेल्स स्प्राउट्स की खेती कैसे करे How to cultivate Brussels sprouts...

Brussels sprouts का नाम बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स शहर के नाम पर पड़ा है|यह गोभी वर्गीय परिवार का ऐसा पौधा है,  जिसकी पत्तियाँ गोभी...

प्याज की खेती की जानकारी – Onion farming information

प्याज भारत देश की महत्वपूर्ण व्यवसायिक फसलों में से एक है। आलू के बाद प्याज का महत्वपूर्ण स्थान है यह एक ऐसी सब्जी है...

मिर्च की खेती की जानकारी – Chilli farming information

मिर्च भारत की सबसे बहुमूल्य व्यावसायिक फसल में से एक है। मसालों के रूप में इसके बहुतायत में प्रयोग के कारण इसकी मांग संपूर्ण...

स्प्रॉउटिंग ब्रोकोली (हरा गोभी) की खेती कैसे करें Sprouting broccoli (Green...

स्प्रॉउटिंग ब्रोकोली के बारे में सामान्य जानकारी- ब्रोकोली इटैलियन शब्द हैं, जो लैटिन ब्रान्चियम (branchium) आया हुआ है | जिसका अर्थ आर्म (arm) या...

शकरकंद की खेती की जानकारी – Farming information of Sweetpotato in...

शकरकंद को उसके मीठे स्वाद वाले जड़ कंद के लिए उगाया जाता है। इसके रूपांतरित जड़ की उत्पत्ति पर्वसंधियों के जमीन के अंदर प्रवेश...

बैगन की खेती कैसे की जाती है कब और की जाती...

बैगन का botanical name या होता है -what is botanical name of brinjal- Solanum melongena बैगन का वानस्पतिक नाम होता है 

सरसों की खेती कब की जाती है कैसे की जाती है...

सरसों का botanical name क्या है - सरसों का वानस्पतिक नाम botanical name -brassica species ब्रैसिका प्रजाति है  भारतीय अर्थवयवस्था में सरसों वर्ग की फसलो का महत्वपूर्ण स्थान है और अपने आहार का मुख्य अंग है अपने देश में इस समय इन फसलो का कुल क्षेत्रफल 4 .3  मिलियन हेक्टेयर है , जिससे 2.4 मिलियन टनउपज मिलती है इस वर्ग के फसलो को भिन्न भिन्न नाम से pukara जाता है इसलिए उनके नाम तथा गुणों में बड़ा मतभेद है सरसों वर्ग में निम्नलिखित फासले प्रमुख है -